Tuesday, November 22, 2011

"सुकून" के अपहरणकर्ताओं से...चंद बातें


मैं उन लोगों की तलाश में हूं जिन्होंने "सुकून" का अपहरण कर लिया है.. मगर उन लोगों तक पहुंचने का कोई सिरा नहीं मिलता इसलिये सोचा कि वो सब यहां लिख देना चहिये जो मैं उन से कहती... "सुकून" के अपहरणकर्ताओं से...

मैं चाहती हूं कि वो जानें कि उस शाम जब वो "सुकून" को चुरा कर दूर ले गये थे... अम्मा बहुत रोई थीं और बाबा अपने अंदर का जो कुछ आंसुओं में बहा नहीं पाये, वो हर रात उनकी जागती आंखों से झांकता है और सवेरा होने से पहले-पहले फिर से उनके अंदर कहीं दुबक कर बैठ जाता है.

उन लोगों को शायद पता हो कि उस रात के बाद से दुनिया में कोई नहीं सोया... औरों की तो जाने देते हैं.. मैं पूछना चाहती हूं कि क्या वो खुद ही चैन से सो पाते हैं? हम तो खोये हुये "सुकून" को याद कर के तमाम रात तमाम कर देते हैं मगर "सुकून" की पहरेदारी में लगे उन लोगों की पलकें झपक पाती हैं?

वैसे जिन्होंने खोया और जो पा कर रखवाली कर रहे हैं; उनके बीच भी बहुत से लोग हैं जो इस सोच में चैन से सो नहीं पाते कि ऐसा क्या ही था जिसके जाने से दुनिया 'इस कदर' बदल गई?
फिर, जिन्होंने खोया और जो पा कर रखवाली कर रहे हैं; उनके इर्द-गिर्द भी बहुत से लोग हैं जो इसलिये बेचैन हैं कि उन्हें पल-पल निगाह रखने की फिक्र है कि खोने वालों और पाने वालों की दुनिया 'किस कदर' बदल गई?

तो मेरे प्यारे "सुकून" के चोर/चोरों से मैं बस यही कहना चाहती हूं कि उन्हें पूरी कायनात से बद्दुआऐं मिल रही हैं... उनके सिर सारी दुनिया को जगाये रखने का इल्ज़ाम है. हालांकि मैं कोई बद्दुआ नहीं दे रही क्योंकि मैं और मेरे जैसे कुछ ही और लोग हैं जो जानते हैं कि "सुकून" को चुरा ले जाने वाली रात से आज तक वो लोग भी जाग रहे हैं.

तो उन्हीं लोगों की बेहतरी के लिए मैं कहती हूं कि "सुकून" को लौटा दो वरना मेरी दुआओं का कवच अकेला इतनी बद्दुआओं से तुम्हें बचा नहीं पायेगा...

16 comments:

  1. Wah 'meri duaon ka kavach' kya bhav aur shabd hain..aapka sukun bhale na mile par aapki lekhani nisandeh sabka sukoon har lenge..

    Shubhkamnayen..

    Deepak Shukla..

    ReplyDelete
  2. संवेदनशीलता और दृढ़ता से अपनी बात प्रेषित करती पोस्ट!

    ReplyDelete
  3. ॐ शान्ति: शांति: शान्ति:

    ReplyDelete
  4. सुकून छीननेवाले मिल जाने पर भी समझेंगे क्या ? .... उनकी नियत तय है -

    ReplyDelete
  5. बहुत प्य्रार से खबर ली है।

    ReplyDelete
  6. मैं और मेरे जैसे कुछ ही और लोग हैं जो जानते हैं कि "सुकून" को चुरा ले जाने वाली रात से आज तक वो लोग भी जाग रहे हैं|
    क्या बात है, बहुत खूब.........

    ReplyDelete
  7. achha laga .............aapka lekhan shabdjaal nahin, apitu sarthak samvaad hai..badhai !

    aapki profile dekhi..........about me ko baanch kar achha laga

    ReplyDelete
  8. अम्मा बहुत रोई थीं और बाबा अपने अंदर का जो कुछ आंसुओं में बहा नहीं पाये, वो हर रात उनकी जागती आंखों से झांकता है और सवेरा होने से पहले-पहले फिर से उनके अंदर कहीं दुबक कर बैठ जाता है.......
    Vaha sandar prastutikaran

    ReplyDelete
  9. मर्म की बात को सहज तरीके से कहने का निराला अंदाज.

    ReplyDelete
  10. सुकूं चोरी कर क्या वो भी सुकूं पायेंगे ? अच्छी पोस्ट

    ReplyDelete
  11. किसी का सुकून चुरा कर भला कोई कैसे सुकून पा सकेगा...वापस लौटाना ही होगा...मंगलकामनाएँ..

    ReplyDelete
  12. दुआ करता हूँ :) :)

    ReplyDelete