Monday, January 31, 2011

काश!!! घरों में भी पहिये होते...


सच कहूं तो अब उस मोड से गुज़रने का मन नहीं करता मगर मेरी बदकिस्मती तो देखो कि मेरे घर का रास्ता भी उसी मोड से हो कर जाता है और तब ये खयाल मेरे दिल में आता है कि काश!!! घरों में भी पहिये होते तो उसे धकेल कर तुम्हारी यादों से दूर ले जाती.

अब मैं मुड मुड कर तुम्हारे घर की तरफ भी नहीं देखा करती क्योंकि मै जानती हूं कि वहां से टकटकी बांध कर तुम्हारी आंखें मुझे निहार नहीं रही होंगी. तुम्हारे घर को मैं नज़रअंदाज़ कर देती हूं...तुम्हारी यादों को भी परे झटक देती हूं मगर उस मोड का क्या करूं जहां हर शाम तुम मेरा इंतज़ार किया करते थे? उस मोड पर तुम्हारे होने का अहसास मुझे आज भी होता है... लगता है जैसे मेरे स्कूल से लौटने की राह तुम आज भी देख रहे होगे और जान बूझ कर अपने हाथों में सिगरेट का वो अधजला टुकडा मुझे दिखाओगे. तुम जानते हो कि मेरी भवें तुम्हारी इस हरकत पर तन जायेंगी और मैं भी जानती हूं कि मेरी आंखों के वो जलते अंगारे देख कर भी तुम्हारी मुस्कान की शिद्दत में कोई कमी नहीं आयेगी.


अच्छा एक बात तो बताओ...क्या मैं भी तुम्हारी यादों में अब तक ज़िन्दा हूं? जिस तरह मैं इस चौराहे पर हर रोज़ ठिठक जाती हूं..हर रोज़ खुद को संभालती हूं... अपनी ही यादों के टुकडों को समेट कर आगे बढ़ जाती हूं... क्या तुम्हें भी मैं याद आती हूं???

क्या तुम भी उस शाम को इस चौराहे पर खडा देखा करते हो जब अपनी गुलाबी साडी में मैं तुम्हारा इंतज़ार कर रही थी और रिमझिम बारिश की बूदों ने सितारे टांक दिये थे मेरे आंचल मे... और फिर तुम आये थे मेरी पसंदीदा उस आसमानी कमीज़ में, मेरे सिर की छत बने... मेरे आसमान की तरह.

उस शाम हमारे बीच जो भी हुआ उसका अफसोस ना मुझे तब था और ना आज ही है क्योंकि मैं जानती हूं कि सितारों की पूर्णता आसमान से ही है... सितारों का वजूद... सब कहते हैं कि अधूरा है आसमान के बिना और अगर पूरा हो भी जाये तो किसी ना किसी की दुआ का तारा बन कर तो उसे टूटना ही होता है. मैं भी तुम्हारे प्यार के आसमान से टूट कर छिटक गई किसी की दुआओं का सितारा बन कर. ज़मीन के उस कोने में पडी, मैं आज भी तुम्हें एक टक देखा करती हूं और जैसा कि अक्सर होता ही है... टूटे हुये तारे को कोई याद नहीं रखता, जिनकी दुआ के लिए तारा टूटता है... वो भी नहीं. मगर मुझे खुशी इस बात की है कि तुम आज भी उस ऊंचाई पर हो जहां कई सितारे तुम्हारे आस पास जगमगाते हैं... तुम्हें पूरा करते हैं. मुझे खुशी है कि तुम उस ऊंचाई पर हो कि जब मैं तुम्हें देख्ती हूं तो कोई हमारे बीच नहीं आता. और ये भरोसा भी है कि आज भी किसी ना किसी कोने से तुम मुझे देख रहे हो.... किसी ना किसी तारे में तुम्हें मेरी छवि दिख रही है... कोई ना कोई दुआ तो तुम्हें मेरी याद दिलाती ही होगी... और तुम्हारी वही याद मुझे पूरा करती है चाहे मैं उस से छुट्कारा पाने की कितनी भी दुआ क्युं ना करूं..

27 comments:

  1. यादों को खूबसूरती से सहेजा है।

    ReplyDelete
  2. मोनाली जी,

    अगर ये आपकी आपबीती है......तो सुन कर अफ़सोस हुआ....प्यार जिंदगी में बड़ी मुश्किल से मिलता है......अभी पीछे ही आपका परमात्मा से पैच अप हो गया था......फिर भी....

    यादों से छुटकारा पाना बहुत ज़रूरी है.......खुदा आपको हौसला देगा.....आमीन|

    पोस्ट आपने बहुत अच्छी तरह से लिखी है......जज्बातों को बयां करती है......ये पैरा सबसे अच्छा लगा मुझे......

    क्या तुम भी उस शाम को इस चौराहे पर खडा देखा करते हो जब अपनी गुलाबी साडी में मैं तुम्हारा इंतज़ार कर रही थी और रिमझिम बारिश की बूदों ने सितारे टांक दिये थे मेरे आंचल मे... और फिर तुम आये थे मेरी पसंदीदा उस आसमानी कमीज़ में, मेरे सिर की छत बने... मेरे आसमान की तरह.

    ReplyDelete
  3. सितारों का वजूद... सब कहते हैं कि अधूरा है आसमान के बिना और अगर पूरा हो भी जाये तो किसी ना किसी की दुआ का तारा बन कर तो उसे टूटना ही होता है.....haan aisa to hota hai par tutane ke liye hi is dhara par awtarit hote hai..............behtarin

    ReplyDelete
  4. तारा छिटक के भले ही कितनी दूर गिरे...मुमकिन है अपनी धरती, अपने आकाश से कभी ना मिले ...लेकिन जड़ो के साथ जों आत्मिक जुड़ाव है या यूँ कह लो जींस उन्हें कभी अलग कहाँ होने देते :-)

    ReplyDelete
  5. मोनाली जी
    ......जज्बातों को बयां करती है पोस्ट

    ReplyDelete
  6. ***********************************
    ***********************************
    मोनाली जी, हालाँकि आपने स्पष्ट कर दिया है कि ये आपकी आपबीती नहीं है...
    लेकिन ये सोच तो आपकी ही है...
    काफी दिनों के बाद आपको पढ़कर अच्छा लगा...
    कुछ चीजें ऐसी होती हैं जो दिल के किसी कोने में ज़ज्ब हो जाती हैं, आपकी ये पोस्ट कुछ ऐसी ही है मेरे लिए....
    ***********************************
    ***********************************

    ReplyDelete
  7. monali...its beautiful....nd heart-touching....prem ke bhavo ki sundar abhivyakti!!!

    ReplyDelete
  8. कुछ कहने लायक नहीं छोड़ा तुमने यारा.....लाजवाब है!

    ReplyDelete
  9. मैं भी तुम्हारे प्यार के आसमान से टूट कर छिटक गई किसी की दुआओं का सितारा बन कर. ज़मीन के उस कोने में पडी, मैं आज भी तुम्हें एक टक देखा करती .
    क्या कविता इससे बेहतर होती है???
    बहुत खूबसूरत बयानगी.

    ReplyDelete
  10. मोनाली जी बहुत खूब लिखा आपने! जज्बातों का सुंदर चित्रण है आपकी रचना! प्रेम की अनुभूति जो जीवन पर्यंत यादो में जीवित रहती है और हर उस मोड़ पर जहा प्यार भरे पलो को जीया हो सामने आते ही जीवंत हो उठती है !

    ReplyDelete
  11. भावनात्मक और रुहानी ! सुन्दर !

    ReplyDelete
  12. बहुत ही बढ़िया ..यादों पर किसका बस चलता है...शुभकामनायें

    ReplyDelete
  13. शायद आपके व्लाग पर पहली बार आया हूँ | लगता है बहुत देर हुई आने में, मोनाली जी , अहसास को खुबसूरत अल्फ़ाज देना तारीफ़ के क़ाबिल है |शुभकामनायें ....

    ReplyDelete
  14. bahut bahut bahut sunder..........

    padh kar mann bhaaw wibhor ho gaya.......

    ReplyDelete
  15. bhavnaaye bahut h......dard bhi.

    ReplyDelete
  16. kafi dard hai aapke ia rachna me.REALLY,I BECAME SENTIMENTIVE AFTER READING THIS.

    SOCHTA HU BHUL JAU USKO MAGAR
    YAD TO YAD HAI AAYEGI AAHISTA AAHISTA.

    ReplyDelete
  17. i am just speechless. kuch kah nahi paane ki stithi me hoon , shabd ruk gaye hai aankho ki kore bheeg gayi hia ..

    salaam kabul kare
    -----------
    मेरी नयी कविता " तेरा नाम " पर आप का स्वागत है .
    आपसे निवेदन है की इस अवश्य पढ़िए और अपने कमेन्ट से इसे अनुग्रहित करे.
    """" इस कविता का लिंक है ::::
    http://poemsofvijay.blogspot.com/2011/02/blog-post.html
    विजय

    ReplyDelete
  18. monali ji jane kab se bilkul yahi ehsaas apne andar samete baitha tha jab bhi likhna chaha ya to kagaz rusva ho jata tha ya fir kalam ko hi takta rehta tha ki likh bhi hoga ya nahi. kya kahu bas likh hi nahi paya.

    par apko parh kar santushti ho gayi ki aab na bhi likh hua to chalega.
    sach main
    AWESOME

    ReplyDelete
  19. सुन्दर भावनात्मक और रुहानी|

    ReplyDelete
  20. बहुत ही बेहतरीन लिखती है मोनाली जी आप... बहुत अच्छा लगा आपको पढ़कर....

    जब पढ़ रहा था तो महसूस हो रहा जैसे मैं वहीँ था... सब कुछ चलचित्र जैसा महसूस हो रहा था...

    ReplyDelete
  21. बहुत ही सुंदर रही आपकी यह रचना। सचमुच ऐसा लगा कि जैसे कोई सामने खड़े होकर सारी बात कह रहा है। इस गहराई को बनाए रखिए।

    ReplyDelete
  22. आप को सपरिवार होली की हार्दिक शुभ कामनाएं.

    सादर

    ReplyDelete
  23. yaadein yaad aati hain
    har pal har dum satati hain
    par hamesha ek meetha sa ahsas dilati hain

    nice blog
    check out mine blog
    and follow it if you like my posts
    http://iamhereonlyforu.blogspot.com/

    ReplyDelete
  24. मोनाली जी
    ......जज्बातों को बयां करती है पोस्ट

    ReplyDelete
  25. Jazbaaton ka behtareen kolaaz...
    yaadon ko behtareen rangon se sajaya hua ....

    bahut badhiya.

    ReplyDelete
  26. kya baat hai, वाह वाह वाह, सुन्दर भाव, बहुत सुन्दर,

    Vivek Jain vivj2000.blogspot.com

    ReplyDelete